Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

Production Know How

Production Know How

n/a
27
Dec

నవనవలాడే నారుమడి కోసం.../ For a Healthy Nursery....

జగిత్యాల అగ్రికల్చర్, న్యూస్‌లైన్: రాష్ట్రంలోని పలు ప్రాంతాల్లో బోర్లు, బావులు, ఇతర నీటి వనరుల కింద రైతులు వరి నారుమడులు పోసుకున్నారు. నారుమడి దశలోనే తగిన యాజ మాన్య, సస్యరక్షణ చర్యలు చేపట్టినట్లయితే మొ క్కలు ఆరోగ్యవంతంగా పెరుగుతాయి. ప్రధాన పొలంలో పైరు ఎటువంటి చీడపీడలకు లోనవకుండా ఎదిగి, నాణ్యమైన దిగుబడులు అంది స్తుంది. ఈ నేపథ్యంలో వరి నారుమడిలో చేపట్టాల్సిన చర్యలపై కరీంనగర్ జిల్లా పొలాస ప్రాంతీయ వ్యవసాయ పరిశోధనా స్థానం శాస్త్రవేత్త డాక్టర్ చంద్రమోహన్ (వరి) అందిస్తున్న సూచనలు...

నారు పోసిన 10-15 రోజుల తర్వాత 5 సెంట్ల నారుమడిలో (ఇది ఎకరం విస్తీర్ణంలో నాటేందుకు సరిపోతుంది) 2.2 కిలోల యూరి యాను పైపాటుగా చల్లుకోవాలి. మొక్కలకు రెండు మూడు ఆకులు వచ్చే వరకూ ఆరుతడులు ఇవ్వాలి. ఆ తర్వాత మడిలో పలచగా నీరు పెట్టాలి. చలి ప్రభావం ఎక్కువగా ఉన్నట్లయితే రాత్రి వేళల్లో నారుమడిపై పాలిథిన్ షీటు కప్పి, ఉదయాన్నే తీసేయాలి. రబీ వరిలో జింక్ లోప లక్షణాలు ఎక్కువగా కన్పిస్తుంటాయి. ఈ లోపాన్ని నివారించేందుకు లీటరు నీటికి 2 గ్రాముల చొప్పున జింక్ సల్ఫేట్ కలిపి నారుమడిలో పిచికారీ చేసుకోవాలి.

 

కలుపు నివారణ ఇలా...
విత్తనాలు చల్లిన 3-5 రోజులకు 10 లీటర్ల నీటికి 75 మిల్లీలీటర్ల బెంధియోకార్బ్ లేదా 80 మిల్లీలీటర్ల బుటాక్లోర్ కలిపి 5 సెంట్ల నారుమడిలో పిచికారీ చేసినట్లయితే ఊద వంటి కలుపు మొక్కల్ని నిర్మూలించవచ్చు. కలుపు మందు పిచికారీ చేసేటప్పుడు నారుమడిలో నీటిని తీసేయాలి. కలుపు మొక్కలు ఎక్కువగా ఉన్నట్లయితే విత్తనాలు చల్లిన 15వ రోజున 10 లీటర్ల నీటిలో 20 మిల్లీలీటర్ల చొప్పున సైహలోఫాప్ బ్యూటైల్ కలిపి పిచికారీ చేయాలి.

చీడపీడల నివారణ కోసం...
విత్తనాలు చల్లిన 12-14 రోజుల తర్వాత నారుమడిలో కాండం తొలుచు పురుగు, ఉల్లికోడు, హిస్పా, తామర పురుగులు కన్పించినట్లయితే అవసరాన్ని బట్టి లీటరు నీటికి 1.6 మిల్లీలీటర్ల మోనోక్రొటోఫాస్ లేదా 2.5 మిల్లీలీటర్ల క్లోరిపైరిఫాస్ లేదా 2 మిల్లీలీటర్ల క్వినాల్‌ఫాస్ చొప్పున కలిపి పిచికారీ చేయాలి. నారు తీయడానికి వారం రోజుల ముందు 5 సెంట్ల నారుమడిలో 800 గ్రాముల కార్బోఫ్యూరాన్ 3జీ గుళికలు లేదా 250 గ్రాముల ఫోరేట్ 10జీ గుళికలు వేసుకుంటే ప్రధాన పొలంలో కాండం తొలుచు పురుగు, ఉల్లికోడును సమర్ధవంతంగా అరికట్టవచ్చు. అలాగే నారుమడిని పొడ తెగులు, కాండం కుళ్లు తెగులు సోకకుండా ఉండాలంటే పరిసరాల్లో కలుపు మొక్కలు లేకుండా చూసుకోవాలి. నారుమడిలో తెగుళ్లు కన్పిస్తే అవసరాన్ని బట్టి లీటరు నీటికి 2 మిల్లీలీటర్ల హెక్సాకొనజోల్ 5 ఈసీ లేదా వాలిడామైసిన్ చొప్పున కలిపి పిచికారీ చేయాలి.

నారు తీసేటప్పుడు...
నారు తీసేటప్పుడు మొక్కలు లేత ఆకుపచ్చ రంగులో ఉండాలి. దీనివల్ల మూన త్వరగా తిరుగుతుంది. 4-6 ఆకులు వచ్చిన తర్వాతే నారు పీకాలి. విత్తనాలు చల్లిన 25-30 రోజుల మధ్య నారు తీసి ప్రధాన పొలంలో నాట్లు వేయాలి. నారు మొక్కల వయసు ఎట్టి పరిస్థితుల్లోనూ 35 రోజులు దాటకూడదు. నారు తీసేటప్పుడు మొక్కల వేర్లు తెగకుండా చూడాలి.

నాట్లు వేసేటప్పుడు...
నాట్లు వేసేటప్పుడు రైతులు తగిన జాగ్రత్తలు తీసుకోవాలి. ముదురు నారు నాటితే దిగుబడి తగ్గుతుంది. నారును పైపైన నాటితే ఎక్కువ పిలకలు తొడిగే అవకాశం ఉంది. నాట్లు వేసేట ప్పుడు భూసారాన్ని అనుసరించి అవసరమైన పోషకాలు అందించాలి. నాట్లు వేసేటప్పుడు పొలంలో నీరు పలచగా ఉండాలి. మొక్కలు నాటిన తర్వాత ప్రతి 2 మీటర్లకూ 20 సెంటీమీటర్ల కాలిబాట తీయాలి. దీనివల్ల పైరుకు గాలి, వెలుతురు బాగా అందుతాయి. చీడపీడల తాకి డి కొంత వరకూ తగ్గుతుంది. ఎరువులు వేయ డం, పురుగు-కలుపు మందులు పిచికారీ చేయ డం సులభమవుతుంది. పైరు పరిస్థితిని ఎప్పటికప్పుడు గమనించి తగిన చర్యలు తీసుకోవడానికి కూడా కాలిబాటలు ఉపయోగపడతాయి.

ఇవి గుర్తుంచుకోండి
వరుసలు, మొక్కల మధ్య 15 సెంటీమీటర్ల చొప్పున దూరాన్ని పాటిస్తూ చదరపు మీటరుకు 44 మొక్కలు ఉండేలా వరి నాట్లు వేసుకోవాలి. చివరి దుక్కిలో విధిగా ఎకరానికి 20 కిలోల చొప్పున జింక్ సల్ఫేట్ వేయాలి. సిఫార్సు చేసిన నత్రజనిని 3 సమాన భాగాలుగా చేసి నాట్లకు ముందు దమ్ములోనూ, పైరు దుబ్బు చేసే దశలోనూ, అంకురం దశలోనూ వేసుకోవాలి. నత్రజని ఎరువును బురద పదునులో మాత్రమే వెదజల్లి, 36-48 గంటల తర్వాత నీరు పెట్టాలి. 50 కిలోల యూరియాకు 10 కిలోల చొప్పున వేపపిండిని కలిపి వేస్తే నత్రజని వినియోగ సామర్ధ్యం పెరుగుతుంది.

సిఫార్సు చేసిన భాస్వరం ఎరువును పూర్తిగా దమ్ములోనే వేయాలి. రేగడి నేల అయితే పొటాష్ ఎరువును కూడా పూర్తిగా ఆఖరి దమ్ములోనే వేయాలి. ఒకవేళ చల్కా (తేలిక) నేల అయితే ఆఖరి దమ్ములో సగం, అంకురం ఏర్పడే సమయంలో మిగిలిన సగం పొటాష్‌ను వేసుకోవాలి. కాంప్లెక్స్ ఎరువుల్ని పైరు దుబ్బు చేసే సమయంలో, అంకురం ఏర్పడే సమయంలో పైపాటుగా వేయకూడదు. దమ్ములోనే వేయడం మంచిది. జింక్ సల్ఫేట్‌ను భాస్వరం ఎరువుతో కలిపి వేయకూడదు. ఈ రెండు ఎరువులు వేయడానికి మధ్య కనీసం 3 రోజుల వ్యవధి ఉండాలి. అలాగే పైరుపై జింక్ సల్ఫేట్ ద్రావణాన్ని పిచికారీ చేసేటప్పుడు దానిలో పురుగు/తెగుళ్ల మందు కలపకూడదు.

File Courtesy: 
http://www.sakshi.com/main/WeeklyDetails.aspx?Newsid=54868&Categoryid=7&subcatid=7
Image Courtesy: 
http://www.sakshi.com/main/WeeklyDetails.aspx?Newsid=54868&Categoryid=7&subcatid=7
8
Dec

ಕೂರಿಗೆ ಬಳಕೆ ಖರ್ಚು ಉಳಿಕೆ

 ಕೂರಿಗೆ ಬಳಕೆ ಖರ್ಚು ಉಳಿಕೆ
ಹೊಸ ಕೂರಿಗೆಯಲ್ಲಿ ರೈತರ ಆಸಕ್ತಿ

ಕೃಷ್ಣಾ ಹಾಗೂ ತುಂಗಭದ್ರಾ ನದಿಗಳು ರಾಯಚೂರು ಜಿಲ್ಲೆಯ ಜೀವನಾಡಿ. ಈ ನದಿಗಳ ನೀರನ್ನು ಬಳಸಿ ರೈತರು ವರ್ಷದಲ್ಲಿ ಎರಡು ಭತ್ತದ ಬೆಳೆ ಬೆಳೆಯುತ್ತಾರೆ. ಆದರೆ, ಈ ವರ್ಷ ಎರಡನೇ ಬೆಳೆ ಬೆಳೆಯಲು ಸಾಧ್ಯವಾಗಿಲ್ಲ. ಕಾರಣ ನಿರೀಕ್ಷಿತ ಪ್ರಮಾಣದಲ್ಲಿ ಮಳೆ ಆಗಿಲ್ಲ. ಜಲಾಶಯದಲ್ಲಿ ನೀರಿಲ್ಲ.ಮಲೆನಾಡು ಮತ್ತು ನೀರಾವರಿ ಪ್ರದೇಶಗಳಲ್ಲಿ ಭತ್ತದ ನಾಟಿ ಜತೆಗೆ ಬಿತ್ತುವುದೂ ಹೆಚ್ಚು ಪ್ರಚಲಿತದಲ್ಲಿದೆ. ಆದರೆ ರಾಯಚೂರು ಜಿಲ್ಲೆಯ ರೈತರು ನೀರು ಇಲ್ಲದೆ ಭತ್ತ ಬೆಳೆಯುವುದೇ ಇಲ್ಲ. 
ಅವರ ಈ ಸಂದಿಗ್ಧ ಅರಿತ ರಾಯಚೂರು ಕೃಷಿ ವಿವಿ ಉಸ್ತುವಾರಿ ಕುಲಪತಿಗಳಾದ ಎಸ್.ಜಿ. ಪಾಟೀಲ ಅವರು ಕೃಷಿ ವಿಜ್ಞಾನ ಕೇಂದ್ರದ ವಿಜ್ಞಾನಿಗಳ ಸಹಕಾರದೊಂದಿಗೆ ಮಾನ್ವಿ ತಾಲೂಕಿನ ಶಿರವಾರ ಗ್ರಾಮದ ಶರಣಪ್ಪ ಖಾನಾಪುರ ಇವರ ಹೊಲದಲ್ಲಿ `ಶೂನ್ಯ ಬೇಸಾಯ ಕೂರಿಗೆ`ಯಲ್ಲಿ ಬಿತ್ತುವ ಪ್ರಾತ್ಯಕ್ಷಿಕೆ ಏರ್ಪಡಿಸಿದ್ದರು. ಇದನ್ನು ನೋಡಲು ಆಸಕ್ತ ರೈತರು ದೊಡ್ಡ ಸಂಖ್ಯೆಯಲ್ಲಿ ಸೇರಿದ್ದರು.
ಅಲ್ಲಿ ತಜ್ಞರು ಹೇಳಿದ್ದಿಷ್ಟು: ತುಂಗಭದ್ರಾ ನದಿ ಪಾತ್ರದಲ್ಲಿ ಸುಮಾರು 25 ಲಕ್ಷ ಹೆಕ್ಟೇರ್ ಭೂಮಿಯಲ್ಲಿ ಭತ್ತ ಬೆಳೆಯಲಾಗುತ್ತಿದೆ. ಇದಕ್ಕಾಗಿ ಭೂಮಿಯಲ್ಲಿ 15 ರಿಂದ 20 ಸೆಂ.ಮೀ ಆಳದವರೆಗೆ ಉಳುಮೆ ಮಾಡಲಾಗುತ್ತದೆ. ಈ ರೀತಿ ಉಳುಮೆಗೆ ಹೊಲವನ್ನು ಹದ (ಪಡ್ಲಿಂಗ್) ಮಾಡಲು ಹೆಚ್ಚು ಹಣ ಖರ್ಚಾಗುತ್ತದೆ.
ಹೆಚ್ಚು ನೀರು ನಿಲ್ಲಿಸುವುದರಿಂದ ಮಣ್ಣಿನ ಸವಕಳಿ ಉಂಟಾಗುತ್ತದೆ. ರಸಗೊಬ್ಬರ, ಕೀಟನಾಶಕ ಬಳಕೆ ಹೆಚ್ಚಾಗುತ್ತದೆ.ಸಾಮಾನ್ಯವಾಗಿ ರೈತರು ಗದ್ದೆಯಲ್ಲಿ ಹೆಚ್ಚು ನೀರು ನಿಲ್ಲಿಸಿ ಕೆಸರನ್ನು ಹದ ಮಾಡಿ ಭತ್ತದ ಸಸಿ ನಾಟಿ ಮಾಡುತ್ತಾರೆ. ಸದಾ ನೀರು ನಿಲ್ಲಿಸುವುದರಿಂದ ಜೌಗು ಸಮಸ್ಯೆ ಹೆಚ್ಚುತ್ತಿದೆ. ಜನರ ಆರೋಗ್ಯದ ಮೇಲೂ ದುಷ್ಪರಿಣಾಮ ಬೀರುತ್ತಿದೆ.
 ಆದ ಕಾರಣ ನಾಟಿ ಪದ್ಧತಿ ಬಿಟ್ಟು ಪರ್ಯಾಯ ಮಾರ್ಗ ಕಂಡುಕೊಳ್ಳಬೇಕಾದ ಅನಿವಾರ್ಯತೆ ಬಂದಿದೆ. ಬೇಸಾಯ ಕ್ರಮದಲ್ಲಿ ಬದಲಾವಣೆಯ ಅನಿವಾರ್ಯತೆ ಇದೆ. ಮೊದಲ ಹಂತವಾಗಿ ನೀರನ್ನು ಉಳಿಸುವತ್ತ ಹೆಜ್ಜೆ ಇಡಬೇಕಾಗಿದೆ. ಅದಕ್ಕಾಗಿ ಭತ್ತವನ್ನು ನಾಟಿ ಮಾಡುವ ಬದಲಾಗಿ ಬಿತ್ತುವುದಕ್ಕೆ ಆದ್ಯತೆ ಕೊಡಬೇಕಾಗಿದೆ.
ಇದೇ ಸಂದರ್ಭದಲ್ಲಿ ಟ್ರಾಕ್ಟರ್‌ಗೆ `ಶೂನ್ಯ ಬೇಸಾಯ ಕೂರಿಗೆ` ಜೋಡಿಸಿ ಬಿತ್ತನೆ ಮಾಡುವ ವಿಧಾನ ತೋರಿಸಲಾಯಿತು. ಇದರಲ್ಲಿ ಬಿತ್ತನೆಗೆ ಮೊದಲು ಹೊಲವನ್ನು ಹದ ಮಾಡಿಕೊಳ್ಳುವ ಅವಶ್ಯಕತೆ ಇಲ್ಲ. ಹೊಲದಲ್ಲಿ ಕಸ-ಕಡ್ಡಿ, ಹುಲ್ಲು ಇರುವಾಗಲೇ ಬಿತ್ತನೆ ಮಾಡಬಹುದು.
 

 

ಹೊಲ ತೇವಾಂಶದಿಂದ ಕೂಡಿದ್ದರೂ ಬಿತ್ತನೆ ಮಾಡಿ ಒಂದು ವಾರದೊಳಗೆ ತೆಳುವಾಗಿ ನೀರು ಹಾಯಿಸಿದರೆ ಸಾಕು ಅಥವಾ ಮಳೆ ಬರುವ ಮುನ್ಸೂಚನೆ ಇರುವಾಗಲೇ ಒಣ ಭೂಮಿಯಲ್ಲೆ ಬಿತ್ತನೆ ಮಾಡಬಹುದು. ಬಿತ್ತನೆ ಮಾಡಿದ 15 ದಿನದೊಳಗೆ ಮಳೆ ಬರದೇ ಇದ್ದರೆ ತೆಳುವಾಗಿ ನೀರು ಹಾಯಿಸಬೇಕು. 
ಹೀಗೆ ಬಿತ್ತನೆ ಮಾಡುವುದರಿಂದ
* ಶೇ 30ರಿಂದ 47ರಷ್ಟು ನೀರಿನ ಉಳಿತಾಯ ಆಗುತ್ತದೆ.
* ಉಳುಮೆ ಖರ್ಚು ಕಡಿಮೆ ಆಗುತ್ತದೆ.
* ಕಲುಷಿತ ವಾತಾವರಣ ಕಡಿಮೆ ಆಗುತ್ತದೆ.
* ಮಣ್ಣಿನ ಸವಕಳಿ ಕಡಿಮೆ ಆಗುತ್ತದೆ.
* ಬಿತ್ತನೆ ಸಮಯದಲ್ಲಿ ಕಸ-ಕಡ್ಡಿ, ಹುಲ್ಲು ಮಣ್ಣೊಳಗೆ ಸೇರುವುದರಿಂದ ಮಣ್ಣಿನ
 ಫಲವತ್ತತೆ ಮತ್ತು ರೋಗ ನಿರೋಧಕ ಶಕ್ತಿ ಹೆಚ್ಚುತ್ತದೆ.
* ಸಮಯದ ಉಳಿತಾಯ ಆಗುತ್ತದೆ.
* ಮಣ್ಣಿನ ಸಾಂದ್ರತೆ/ ಕ್ಷಾರ ಹೆಚ್ಚುತ್ತದೆ.
* ಮಣ್ಣಿನಲ್ಲಿ ಲವಣ ಶಕ್ತಿ ಹಾಗೆ ಉಳಿಯುತ್ತದೆ.
* ರೋಗ ನಿಯಂತ್ರಣ ಶಕ್ತಿ ಬರುವುದರಿಂದ ಕಡಿಮೆ ಪ್ರಮಾಣದ ರಸಗೊಬ್ಬರ,
 ಕೀಟನಾಶಕ ಬಳಕೆ.
* ನಾಟಿಯಲ್ಲಿ ಒಂದು ಎಕರೆಗೆ 20 ರಿಂದ 25 ಕಿಲೊ ಬೀಜ ಬೇಕು. ಆದರೆ ಕೂರಿಗೆಯಲ್ಲಿ ಬಿತ್ತನೆಗೆ 8 ರಿಂದ 10 ಕಿಲೊ ಸಾಕು.
* ಆಳಿನ ಖರ್ಚು ಉಳಿತಾಯ.
* ಇಳುವರಿ ಹೆಚ್ಚುತ್ತದೆ.
ಕೂರಿಗೆ ಬಿತ್ತನೆಯ ಲಾಭಗಳನ್ನು ಪಟ್ಟಿ ಮಾಡಿ ಹೇಳುವ ಸಮಯದ್ಲ್ಲಲೇ ರೈತರೊಬ್ಬರಿಂದ ಪ್ರಶ್ನೆ ತೂರಿ ಬಂತು; `ಸಾಹೇಬರಿಗೆ ಏನ್ ಗೊತ್ತಾಗ್ತದರೀ? ಪುಸ್ತಕದಾಗ ಓದ್ಯಾರ; ಬಂದು ಹೇಳತಾರ್, ಬಿತ್ತಗಿ ಮಾಡಿದ ಅನುಭವ ಇರೋ ರೈತನಿಂದ ಹೇಳಸರೀ`.

ತಕ್ಷಣವೇ ರೈತ ಸಿದ್ಧರಾಮಯ್ಯಸ್ವಾಮಿ ಎದ್ದು ನಿಂತು ಹೇಳಿದರು. `ನಾನು ಮೊದಲ್ ಇದನ್ನ ನಂಬಿರಲಿಲ್ಲಾ, ಯಾತಕ್ಕೂ ಇರ್ಲಿ ಅಂತಾ 1 ಎಕರೆ ಬಿತ್ತಿದೆ. ಬಿತ್ತಗಿ ಮತ್ತ ಆಳಿನ ಖರ್ಚು ಕಡಿಮಿ ಆತು. ಮುಂಚೆ ಸರಾಸರಿ ಎಕರೆಕ 35 ಚೀಲ ಭತ್ತ ಬರ್ತಿತ್ತು. ಕೂರಿಗೆ ಬಿತ್ತನೆ ನಂತ್ರ 48 ಚೀಲ ಇಳುವರಿ ಬಂದೇತಿ ನೋಡ್ರಪಾ` ಎಂದು ಹೇಳಿದಾಗ ರೈತರ ಅನುಮಾನ ದೂರವಾಗಿತ್ತು. 
ಮಾಹಿತಿಗೆ ಪಾಟೀಲರ ಸಂಪರ್ಕ ಸಂಖ್ಯೆ 94806 96301.


ಭತ್ತ ಬಿತ್ತನೆಗೆ ಇದೇ ಕೂರಿಗೆ




File Courtesy: 
ZARS,RKMP-Mandya
22
Nov

Farmers opt for paddy variety that needs less water

 
One of the farmers who is cultivating the KRH-4 paddy variety in Matada Doddi village near Malavalli in Mandya district.

Farmers in at least six districts, who were affected by deficient rainfall this year, have come forward to cultivate a hybrid variety of paddy, KRH-4, developed by the University of Agricultural Sciences (UAS), Bangalore, which requires less water compared to other varieties.

The paddy variety, developed after several years of research and field trials, is expected to yield 7.8 tonnes a hectare, which is more than double the yield from traditional varieties, according to UAS-B authorities.

Hundreds of farmers have expressed their willingness to cultivate KRH-4 paddy in over 5,000 acres of land in Mandya, Mysore, Hassan, Tumkur, Shimoga and Ramanagaram districts, N. Shivakumar, a breeder at the Paddy Division at the V.C. Farm here, told The Hindu on Sunday.

Promoting the variety

To promote the KRH-4 paddy, the UAS-B is cultivating the variety in 125 acres of land in various districts using the innovative and water saving method of System of Rice Intensification. Standing crop in most of the fields is in the ‘milky’ stage, which will be followed by grain-filling and maturity stages.

Scientists at the Zonal Agricultural Research Station, V.C. Farm, are expecting that yield from the KRH-4 variety to be at least two times more than that from the other varieties.

Crop demonstrations

UAS-B and V.C. Farm authorities have conducted live crop demonstrations in several villages in the six districts which were attended by hundreds of farmers cultivating traditional paddy varieties.

Mr. Shivakumar said more than 20 districts in the State had been badly affected owing to deficient rainfall. KRH-4 was a boon for farmers as it requires less water and fertilizer.

Cultivation of the variety in the 125 acres had been taken up in association with V.C. Farm, Krishi Vigyan Kendras (KVKs) and Karnataka State Seeds Corporation, he said.

“Hundreds of farmers have placed orders for the KRH-4 variety to take up sowing in about 5,000 acres in the next season. The variety may be cultivated in over 15,000 acres in the next two seasons,” he said. The variety has also evoked curiosity among researchers in different parts of the country.

The paddy variety is being cultivated in 15 acres of land at Matada Doddi village near Malavalli.

Puttaswamy, who has been growing traditional paddy varieties since the last 19 years, is cultivating the KRH-4 variety in nearly 4 acres. He said the new variety had drastically reduced the input costs as it requires less water. The yield was expected to be three times more than that from the traditional varieties, he said.

“Farmers in Hadya, Katte Doddi, Channanke Gowdana Doddi, Kyathanahalli, Naguvanahalli and others villages have decided to take up cultivation of the KRH-4 variety in a big way. In Matada Doddi itself at least 100 farmers are ready to sow the hybrid variety,” Mr. Puttaswamy said.

Farmers in the surroundings of Malavalli and Mandya cultivate paddy varieties such as MTU 1001, BPT 5204, IR 64, Thanu and IR 3864. With uncertainty over the release of Cauvery water and owing to deficient rainfall many of them were willing to opt for the new hybrid variety, scientists at the V.C. Farm said.

courtesy:www.thehindu.com

File Courtesy: 
http://www.thehindu.com/news/states/karnataka/farmers-opt-for-paddy-variety-that-needs-less-water/article4108970.ece
26
Sep

टिकाऊ चावल उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए प्रबंधन रणनीति

कुछ ऐसे अहम प्रबंधन कौशल, जो मृदा स्वास्थ्य को टिकाऊ बनाते हैं, निम्नांकित हैं:   

1. स्थान विशेष के आधार पर संतुलित रूप से उर्वरक का प्रयोग करना, ताकि नाइट्रोजन उर्वरक के विपरीत प्रभावों से बचा जा सके।  

2. मांग के आधार पर अजैविक/जैविक पोषण प्रबंधन को व्यवहार में लाना, जिनमें मौसम से पहले तथा उसके बाद हरे लेग्यूम/हरे खाद का उपयोग करना। 

3. चावल-चावल की बजाए चावल-गैर-चावल फ़सल का उपयोग करना, ताकि सही वातन हो सके और मृदा फेनॉल से भरपूर जैविक पदार्थ का अनावश्यक निर्माण से बचा जा सके। 

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
26
Sep

मृदा स्वास्थ्य के मापन तथा उसके प्रयोग में आने वाले व्यवधान

1. पूर्व चेतावनी वाले मृदा स्वास्थ्य संकेतकों की कमी।

2. मृदा स्वास्थ्य के भौतिक तथा जैविक आयामों के निर्धारण के लिए सरल तथा सटीक प्रोटोकॉल तथा उपकरणों की कमी। 

3. मृदा स्वास्थ्य के त्रिविम तथा सामयिक गुण की भिन्नता इसके मापन में कठिनाई पैदा करती है। 

4. किसानों की भाषा में मृदा स्वास्थ्य के लिए फ्रेम वर्क की कमी, जैसे कई सारे मृदा मापन की जगह पर कोई एकल उपयोगी इंडेक्स की कमी है।  

 

 

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
26
Sep

मृदा स्वास्थ्य की निगरानी

1. मृदा स्वास्थ्य की वास्तविक समय वाली निगरानी संभव नहीं,

पर उपयुक्त समयांतरालों में संकेतकों के मापन के जरिए इसकी निगरानी की जा सकती है, जो उनकी संवेदनशीलता पर निर्भर करती है और इसके लिए मानक विधियों का प्रयोग किया जाता है, जिनमें मृदा स्वास्थ्य में होने वाले परिवर्तनों को परखा जाता है, ताकि रक्षात्मक कदम उठाए जा सकें।  

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
26
Sep

मृदा स्वास्थ्य के लिए संकेतक

1. मृदा स्वास्थ्य के आसानी से मापे जाने हेतु संकेतक अहम होते हैं,

जिसके जरिए हम मृदा की गुणवता की निगरानी/मूल्यांकन करते हैं। 

2. संकेतकों को गुणात्मक (बोध, गंध, रूप-रंग) के जरिए तथा विश्लेष्णात्मक (रासायनिक, भौतिक तथा जैविक) तकनीकियों के जरिए मापा जाता है। 

3. निम्नांकित अहम रासायनिक, भौतिक तथा जैविक गुण हैं, जिनके जरिए व्यापक रूप से मृदा के स्वास्थ्य का निर्धारण किया जाता है।  

 

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
26
Sep

मृदा स्वास्थ्य में व्यवधान/गिरावट

1. मृदा स्वास्थ्य में कमी को निम्नीकरण करते हैं तथा यह मुख्य रूप से उपरिक्त तीन घटकों के कारण होता है, जो हैं- भौतिक निम्नीकरण (अपरदन, संरचना में गिरावट- पैन निर्माण/ संघनन, मृदा कैपिंग/क्रस्ट निर्माण), रासायनिक निम्नीकरण (पोषक तत्त्वों में कमी/लवणता/सॉडिफिकेशन/अम्लीकरण/रासायनिक प्रदूषण) तथा जैविक निम्नीकरण (जैविक पदार्थों की हानि, पोषण चक्र विधि का बाधित होना।)। 

2. वैश्विक स्तर पर पिछ्ले 50 सालों से होने काले मृदा निम्नीकरण को फसल भूमि का 13% माना गया है।  

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
26
Sep

मृदा की गुणवत्ता बनाम मृदा का स्वास्थ्य

1. वैज्ञानिक साहित्य में “मृदा गुणवत्ता” तथा “मृदा स्वास्थ्य” का काफी उपयोग होता है, जिसका अर्थ होता है बिना क्षीण हुए या पर्यावरण को नुकसान पहुंचाए बिना फ़सल की वृद्धि को बढ़ावा देना। 

2. कुछ लोग मृदा स्वास्थ्य जैसे शब्द का इस्तेमाल इसलिए करते हैं कि यह जीवित, गतिशील अवस्था वाली मानी जाती है, जो रेत, गाद और कीचड़ के कणों की बजाए काफी पोषक रूप में कार्य करती है।  

3. कुछ लोग मृदा गुणवत्ता शब्द का इस्तेमाल करते हैं, क्योंकि यह मृदा गुणों, जैसे भौतिक, रासायनिक तथा जैविक गुणों की भिन्नता को मापने पर जोर डालता है। 

 

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
26
Sep

चावल के टिकाऊ उत्पादन के लिए मृदा स्वास्थ्य की अवधारणा को समझना

1. चावल के टिकाऊ उत्पादन, टिकाऊ कृषि प्रणालियां तथा साथ ही भूमि उपयोग के लिए मृदा के मूल्यांकन तथा प्रबंधन के लिए मृदा स्वास्थ्य को समझना जरूरी होता है, ताकि वर्तमान में इसका आदर्श उपयोग हो सके तथा भविष्य के उपयोग के लिए उसकी गुणवत्ता में गिरावट न आ सके।  

2. कृषि में मृदा का महत्व है तथा इसे बनाए रखने का प्रयास किया जाना चाहिए। हालांकि हमने इसकी उत्पादकता की समस्या को काफी बढ़ा दिया है। 

3. इस प्रकार यह समझना जरूरी हो जाता है कि मृदा स्रोतों के अल्प कालिक उपयोग तथा इसके दीर्घ कालिक टिकाऊपन के बीच एक संतुलन कायम हो। 

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
26
Sep

फ़सल (चावल) के रोगों/पीड़कों पर सिलिकन (Si ) की भूमिका

1.Si की आपूर्ति बढ़ने से (बाढ़ की स्थिति में), पत्तियों की Si मात्रा भी बढ़ जाती है, जिससे राइस ब्लास्ट जैसे कवक रोगों के प्रति संवेदनशीलता में भी गिरावट आती है। 

2. हाइफी (उत्तकों का सिलिफिकेशन) के भेदन के ख़िलाफ एपिडर्मल कोशिकाओं में भौतिक अवरोध के निर्माण मुख्य विधि है, जिसके जरिए  Si राइस ब्लास्ट जैसे रोगों के प्रति प्रतिरोध पैदा करता है। इसके अलावा  Si  पौधों में घुलनशील  N की मात्रा को कम करता है, जिससे मिट्टी में चिटिनेज सक्रियता को प्रेरित होती है। 

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
26
Sep

फ़सल (चावल) के रोगों/पीड़कों पर बोरॉन (B) की भूमिका

1.B की आवश्यकता लिग्निन, सायनिडिंस (ल्युको साइनिडिन)/पॉलीफिनॉल के जैव-संश्लेषण के लिए होती है तथा इसके आदर्श प्रयोग से पौधों में कवक (मुर्झाना/रस्ट) तथा वायरल रोगों के ख़िलाफ प्रतिरोध बढ़ता है। 

2.B के सही उपयोग से पौधों में कीटों के प्रति प्रतिरोध में भी इज़ाफा होता है।  

 

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
26
Sep

फ़सल (चावल) के रोगों/कीटों पर तांबे (Cu ) का प्रभाव

1.Cu को पौधों के रोगों से बचाव करने में अहम माना जाता है। उच्च सांद्रण में Mn की तरह  Cu भी कवकों के लिए प्रत्यक्ष रूप से विषैला होता है। 

2.Cu द्वारा बढ़े प्रतिरोध से उच्च पॉलीमर्स में खासकर प्रोटीन के उपापचय में फिजियोलॉजिकल प्रभाव में वृद्धि होती है। इस कार्य के लिए  Cu का सांद्रता काफी कम होती है।  

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
26
Sep

फ़सल (चावल) के रोगों/पीड़कों पर मैंगनीज (Mn) का प्रभाव।

1.Mn कवक के लिए प्रत्यक्ष रूप से विषैला होता है, साथ ही यह लिग्नीफिकेशन (भौतिक अवरोध) को बढ़ावा देता है और प्रकाश-संश्लेषण को बढ़ाता है, जिससे जड़ से रिसाव होता है और एंटीफंगल माइक्रोफ्लोरा को बढ़ावा मिलता है। 

2. यह ऐसी सिंचित भूमि में जहां  Mn की उपलब्धता काफी अधिक होती है, राइस ब्लास्ट (उच्च नाइट्रोजन तथा निम्न पोटेशियम की स्थिति में) को ब्राउन स्पॉट के प्रति प्रतिरोधी बनाता है। 

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
26
Sep

फ़सल (चावल) के रोग/पीड़कों पर जिंक (Zn) का प्रभाव

1.Zn पौधों में रोगाणुओं के ख़िलाफ प्रतिरोध बढ़ाता है। 

2.Zn की आपूर्ति वाली मिट्टी में जड़ों में होने वाले रोगों की संभावना कम देखी जाती है। Zn घोल की थोड़ी मात्रा प्रभावी कवकनाशी के रूप में कार्य करती है। 

3.Zn लवण से बीजों को उपचारित करने से भी कवक रोगों में कमी आती है। Zn की कमी प्रोटीन संश्लेषण को बाधित करती है।. 

4. असंतुलित (उच्च N, तथा निम्न Zn) उर्वरक प्रयोग से उत्पन्न Zn की कमी एमीनो अम्ल के जमाव पैदा करता है। 

5. ऐसी स्थिति चूषण कीटों तथा परपोषी कीटों के लिए हमले करने के लिए अनुकूल स्थिति होती है।  

 

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
26
Sep

फ़सल (चावल) के रोग/पीड़कों पर लौह तत्त्व (Fe) का प्रभाव

1. कई अन्य सूक्ष्म तत्त्वों के साथ Fe की आवश्यकता फाइटोलैक्सिन के निर्माण में पड़ती है, जो पोषक पौधे की प्रतिरक्षा प्रणाली से जुड़ा होता है। 

2. यह रोगाणुओं की उग्रता को भी प्रभावित करता है।  Fe की कमी वाले वातावरण में उत्पन्न कोनिडिया को  Fe की उपस्थिति वाले वातावरण की तुलना में अधिक आक्रामक रोगाणु के रूप में पाया गया है।  

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
26
Sep

फ़सल (चावल) के रोग/पीड़कों पर कैल्शियम (Ca) की भूमिका

1. पौधों में रोगों के विकास के लिहाज से Ca सबसे अधिक अहम और ज्ञात तत्त्व है। 

2.Ca रोगों के प्रति प्रतिरोध पैदा कर सकता है तथा साथ ही यह रोगाणुओं की उग्रता को भी बढ़ा सकता है। पौधों के भागों में Ca पेक्टेट का जमाव कर कोशिका भित्तियों को मजबूती प्रदान करता है। 

3. इसके अलावा पोषक पौधे में भेदन के दौरान Ca परपोषी कवक/बैक्टीरिया द्वारा निर्मित पेक्टोलाइटिक एंजाइम जैसे पॉलीगालाक्टोरिनेज को मध्य लेमेला में घुलने से रोकता है। 

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
26
Sep

फ़सल (चावल) के रोग/पीड़कों पर पोटाशियम (K) की भूमिका

1.N के विपरीत K का पौधों के रोग तथा पीड़कों पर मुख्यतः सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। सामान्यतः K के अनुकूल प्रभाव कमी के दायरे तक सीमित होते हैं। 

2. पर्याप्त K वाली मिट्टी में अतिरिक्त K की मात्रा राइस ब्लास्ट जैसे कुछ रोगों में वृद्धि करता है। K के प्रतिरोध समर्थन क्षमता के कई आयाम होते हैं। 

3. एंजाइम की सक्रियता तथा उच्च आण्विक भार (सेलुलोज/लिग्निन/प्रोटीन) जैव-संश्लेषण मंो इसकी भूमिका के कारण  फायटोपैथोजेंस में प्राइमरी बिल्डिंग ब्लॉक (एमीनो अम्ल/एमाइड्स/शर्करा) बाधित हो जाते हैं।  

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
26
Sep

फ़सलों (चावल) के रोग/पीड़कों पर फॉस्फोरस (P) की भूमिका

1. यद्यपि उपज में वृद्धि लाने के लिहाज से  P की आपूर्ति काफी अहम मानी जाती है, पर इसके लिए थोड़ी चिंताएं भी होती हैं। 

2. यह पौधे की रोग/पीड़क प्रतिरोधकता पर प्रभाव डालता है। 

3. उदाहरण के लिए राइस ब्लास्ट के लिए  N का स्तर काफी अहमियत रखता है और P से इसका कोई संबंध नहीं होता। पर्याप्त P आपूर्ति से होने वाली निरंतर्न वृद्धि से पौधे में कुछ प्रकार की जड़ रोगों (पाइथियम) से छुटकारा पाने में मदद मिलती है। 

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
Syndicate content
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies