Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

11
Oct

वुडन हॅमर (मुथला)

1. लकड़ी से बना हथौड़ा बिलकुल हथौड़े जैसा परंतु आकार में बड़ा, 3-3.5 फ़ीट लकड़ी के हत्थे के साथ लकड़ी का निचला लॉग 2-2.5 कि.ग्रा. का होता है।

2. जुताई के बाद ग्रामीण इसे मैदान पर बड़े ढेले तोड़ने के लिए प्रयोग करते हैं।

11
Oct

हुलर्स/राइस मिलें

1. औसतन साफ धान 72 प्रतिशत चावल, 22 भूसी एवं 6 प्रतिशत चोकर की पैदावार करता है।

2. पारंपरिक हाथ से की गई कुटाई या पैरों से की गई कुटाई (ढेनकी) अब अप्रतिस्पर्धात्मक बन गया है। धान हुलर्स, शेलर्स एवं आधुनिक चावल मिलों ने लोकप्रियता हासिल की है।

3. हुलर्स शायद ही कभी 65 प्रतिशत कुल पैदावार देते हैं, 20-30 प्रतिशत टूटे के साथ, इसके अतिरिक्त यह पूरी तरह साफ चावल नहीं देते।

4. सबसे आधुनिक चावल मिलें (सिंगल पास), 2-4 टन प्रति घंटे की क्षमता में उपलब्ध हैं। छोटी आधुनिक चावल मिलें 150-550 किलोग्राम प्रति घंटे की क्षमता के साथ उपलब्ध हैं एवं उच्च रिकवरी की पैदावार देती हैं।

5. आधुनिक चावल मिलें केवल 10 प्रतिशत के अनाज के टूटे जाने के साथ 70 प्रतिशत की उपज रिकवरी देती हैं।

11
Oct

छानने वाले पंखे

1. हस्त संचालित एवं बिजली संचालित छानने वाले पंखे व्यावसायिक रूप से उपलब्ध हैं।

2. वह धान जो हाथ से या पेडल द्वारा संचालित धान थ्रेशर से फटकाया गया हो, उसे इन पंखों का उपयोग करके साफ किया जाता है।

3. इन छानने वाले पंखों में लकड़ी, लोहे के कोण, वेल्डेड स्टील या दो के संयोजन से बने फ्रेम होते हैं, स्प्रॉकेट एवं चेन, बेल्ट एवं गरारियाँ एवं एकल या डबल कटौती यंत्र के साथ जैसी चालन प्रक्रिया के साथ।

पारंपरिक छानने वाले पंखे:

पंखे का आधार लकड़ी के फ्रेम का होता है जैसे लोहे वाले छानने के पंखे एवं ब्लेड में घुमाव के साथ, ब्लेड लोहे की चादर से बने होते हैं। यह दूरदराज के किसानों के लिए छानने के उद्देश्य से बनते हैं।

 

 

 

11
Oct

थ्रेशिंग रोलर

1. महुआ (मधुका इंडिका) लकड़ी की विशेष गुणवत्ता के कारण, इस उद्देश्य के लिए, इसे अधिकतम उपयोग में लाया जाता है।

2. यह दो पक्षीय एक्सेल रोलर्स होते हैं, जो बघिया से जुड़े तख़्ते की नलियों में स्थित होते हैं।

3. महुआ वजन में भारी होता है एवं गांव के पास भी उपलब्ध होता है।

Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies