Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

08
Sep

डॉनी मिल्ड्यू के लक्षण

डॉनी मिल्ड्यू रोग के लक्षण निम्नलिखित होते हैं:

1. डॉनी मिल्ड्यू का संक्रमण पत्ती की ऊपरी सतह पर कोणीय पीले धब्बे के रूप में आरंभ होता है। 

2. आगे चलकर वे चमकदार पीले धब्बे में बदल जाते हैं। 

3. अंततः इन धब्बों के आंतरिक हिस्से पीले किनारे के साथ भूरे रंग के हो जाते हैं। 

4. संक्रमित पत्ते के अंदर की ओर का हिस्सा ठीक और धूसर रहता है, जहां कवक का विकास होता है। संक्रमित प्ररोह, फल तथा बीजों में कवक के स्पोर की सफेद परत चढ़ी रहती है।    

5. सुबह में डॉनी कवक का विकास पत्ती के उल्टी सतह पर होता है। 

 

• स्टेम रॉट प्रबंधन के विकल्पों में पारंपरिक नियंत्रण, रासायनिक नियंत्रण तथा प्रतिरोधी किस्मों की खेती शामिल हैं।

07
Sep

नैरो ब्राउन स्पॉट के लक्षण

 नैरो ब्राउन स्पॉट रोग द्वारा विकसित लक्षण

1. पत्र फलक पर छोटा-संकरा, दीर्घवृत्ताकार से लेकर रैखिक भूरा जख्म उभरते हैं। कभी-कभी ये पत्र आवरण, पुष्पवृंत तथा ग्लूम और छिलके पर भी उत्पन्न होते हैं।   

2. जख्म लगभग 2-10 मिमी तथा 1 मिमी चौड़े होते हैं। 

3. प्रतिरोधी किस्मों में ये जख्म संकरे, छोटे तथा गहरे भूरे होते हैं।

4. संवेदनशील किस्मों में जख्म चौड़े तथा हल्के भूरे होते हैं, जो धूरस उत्तक क्षय के केंद्र पर दिखाई पड़ते हैं। 

5. संवेदनशील किस्मों पर पत्ती का उत्तक क्षय भी दिखाई पड़ता है। 

6. वृद्धि की बाद की अवस्था में जख्म बड़ी संख्या में उत्पन्न होते हैं। 

 

 

Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies