Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

02
Sep

The financial cycle वित्तीय चक्र

1. वित्तीय प्रबंधन की शुरुआत परियोजना के सुपरिभाषित लक्ष्य के साथ होता है। 2. इन लक्ष्यों का उपयोग उन्हें हासिल करने वाली कार्य योजना को विकसित करने में किया जाता है। 3. इन योजनाओं का रूपांतरण प्रत्येक काम के लिए आवंटित धनराशि के बजट के रूप में होता है। योजना के प्रत्येक क्रियाकलाप के लिए इस बजट में अतिरिक्त रूप से सूचनाएं उपलब्ध की जाती हैं। 4. जब चक्र का यह भाग पूरा हो जाए तब एक संक्षिप्त बजट बनाया जाता है जिसमें हर काम के लिए संसाधन उपलब्ध कराया जाता है। 5. उद्देश्य एक ऐसे बजट के निर्माण का है जो वास्तविक परियोजना कार्य के सन्निकट होता है। 6. परियोजना के शुरू होने के साथ ही अकाउंटिंग भी शुरू हो जाता है। अकाउंटिंग में सभी वित्तीय लेनदेनों के रिकॉर्ड और उनकी रिपोर्ट रखा जाता है। 7. अकाउंटिंग दो प्रकार के होते हैं- अकाउंटिंग सेक्शन द्वारा निष्पादित फॉर्मल ऑर्
02
Sep

Planning and control योजना और नियंत्रण

1. किसी भी परियोजना के दो महत्वपूर्ण पहलू होते हैं- योजना और नियंत्रण। 2. ये किसी भी सफल प्रबंधक के लिए अत्यंत आवश्यक है। बिना इनके परियोजनाएं सफल नहीं होतीं, वे समय पर पूरी नहीं की जा सकतीं या फिर उनकी लागत अधिक हो जाती है। 3. एक सफल प्रबंधक को यह अवश्य ध्यान में रखना चाहिए कि परियोजना को एक अच्छे प्लान पर आधारित होना चाहिए और क्रियान्वयन के दौरान कुशल नियंत्रण रखना चाहिए। 4. योजना’ का अर्थ है एक सही और वास्तविकता आधारित लक्ष्य का निर्धारण और उसे हासिल करने के लिए प्रभावी तरीका। लक्ष्य समझ में आने योग्य होना चाहिए और उसे हासिल कर सकना संभव होना चाहिए। यदि लक्ष्य अस्पष्ट हो और उसका मूल्यांकन नहीं किया जा सके तो उसे हासिल नहीं किया जा सकता। यदि लक्ष्य अवास्तविक हो तो उसका प्लान भी अवास्तविक ही होगा और इसलिए उसे पूरा कर सकना संभव नहीं होगा। सफल प्रबंधक को अवश्य
1.किसी भी उद्यम और परियोजना के लिए वित्तीय प्रंबंधन आवश्यक होता है। कृषि का क्षेत्र भी इससे अछूता नहीं है। कृषि कार्य में भी सफलता तभी मिलती है जब सभी क्रियाकलाप उचित वित्तीय सिद्धांतों और कुशल वित्तीय प्रबंधन पर आधारित होते हैं। 2. प्रबंधक यह सुनिश्चित करें कि उन्होंने सबसे सही मामले को फंड पाने हेतु आगे बढ़ाये और फंड प्राप्त हो जाने पर यह भी सुनिश्चित करे कि फंड योजना के अनुसार खर्च किया जाए। 3. सफल प्रबंधक को यह हमेशा पता रहता है कि प्रत्येक काम के लिए कितनी राशि आवंटित की गई है, उस राशि को कैसे खर्च करना है और कितनी राशि पहले खर्च की जा चुकी है। 4. सफल प्रबंधक यह ध्यान रखते हैं कि सभी राशि जायज मद में ही खर्च किजाए और यह सब संगठन की वित्तीय योजना और विनियम के अनुसार हो। 5. इस हेतु, हर प्रबंधक को बजटिंग, अकाउंटिंग और ऑडिट की समझ होनी चहिए। बजटिंग : परियोजना के ह
02
Sep

Financial management वित्तीय प्रबंधन

1. किसी भी उद्यम और परियोजना के लिए वित्तीय प्रंबंधन आवश्यक होता है। कृषि का क्षेत्र भी इससे अछूता नहीं है। कृषि कार्य में भी सफलता तभी मिलती है जब सभी क्रियाकलाप उचित वित्तीय सिद्धांतों और कुशल वित्तीय प्रबंधन पर आधारित होते हैं।
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies