Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

 किसान का प्रोफाइल

  • किसानकानाम : बचु वीरा रेड्डी
  • स्थान: करीमनगर ज़िला, आन्ध्रप्रदेश 
  • जन्मतिथितथा 31 जनवरी 2011 कोआयु: 15-3-1946, 64 वर्ष व 9 महीने   
  • शैक्षणिकयोग्यता: बीएससी कृषि   
  • ज़मीनकास्वामित्व (हेक्टेयरमें):  16 हेक्टेयर
  • चावलकीखेतीकाअनुभव: (वर्षोंमें):  41 वर्ष
किसानद्वाराअपनायीगयीफसलप्रणाली:चावल – दाल नवाचार (इनोवेशन) कावर्णन:                                    नवाचार (इनोवेशन) काशीर्षकतथाप्रकृति:चावल में कीडों व कीट के प्रबन्धन के लिए नया जैविक कीटनाशक नुस्खा.   नवाचा र (इनोवेशन) कावर्णन:चावल मनुष्य के आहार का एक मुख्य भाग है और इसे क्षेत्र के बडे किस्से में उगाया जाता है। तना छेदक, पत्ती मोडनेवाला, व्होर्ल मेग्गॉट तथा बीपीएच जैसे कीटों के अकार्बनिक कीटनाशकों द्वारा प्रबन
किसान का प्रोफाइल
  • किसानकानाम : जितेन्द्र मजुमदार    
  • स्थान: उदयपुर, त्रिपुरा 
  • जन्मतिथितथा 31 जनवरी 2011 कोआयु: 16-06-1954, 57 वर्ष
  • शैक्षणिकयोग्यता: बी.ए.उत्तीर्ण  
  • ज़मीनकास्वामित्व (हेक्टेयरमें): 2.2
  • चावलकीखेतीकाअनुभव: (वर्षोंमें): 30
  • किसानद्वाराअपनायीगयीफसलप्रणाली:   एसआरआइ/ आइसीएम
नवाचार (इनोवेशन) का विवरण : नवाचार (इनोवेशन) का शीर्षक तथा प्रकृति: रबर के बाग की छाया की बदौलत चावल के खेत में मत्स्यपालन का एकीकरण।   नवाचार (इनोवेशन) का वर्णन :
  • रबर के पेडों/बागों के फलस्वरूप चावल के खेत के छायादार क्षेत्र को मत्स्यपालन तालाब में बदल दिया गया।
  • रबर के पेडों के क्षेत्र के ठीक नीचे, रबर के पेडों की छाया से बचने के लिए सब्ज़ियां लगाई गई।
समस्या का कथन (वर्णन करें कि नवाचार द्वारा कैसे एक विशेष समस्या को हल किया जाता है):रबर के पेड

किसान का प्रोफाइल: 

  • किसान का नाम : राजीब कुण्डू  
  • स्थान: हूगली, कर्नाटक  
  • जन्मतिथि तथा 31 जनवरी 2011 को आयु: 10-03-1983, 28 वर्ष
  • शैक्षणिक योग्यता: हायर सेकंडरी.  
  • ज़मीन का स्वामित्व (हेक्टेयर में): 4
  • चावल की खेती का अनुभव: (वर्षों में):  6 वर्ष
  • किसानद्वाराअपनायीगयीफसलप्रणाली:   चावल-आलू-तिल
  नवाचार (इनोवेशन) का विवरण : नवाचार (इनोवेशन) का शीर्षक तथा प्रकृति:केआरएच2 के संकर चावल बेज उत्पादन का मानकीकरण   नवाचार (इनोवेशन) का वर्णन :निम्नलिखित प्रक्रियाएं अपनाई गईं:
  • बानो मौसम सर्वश्रेष्ठ है।
  • नवम्बर के महीने (मध्य) में ए पंक्तियों तथा आर पंक्तियों की चरणबद्ध बुवाई।
  • पहले आर पंक्ति का प्रत्यारोपण, उसके बाद 8-10 दिनों का अंतराल और फिर ए पंक्तियों का प्रत्यारोपण।
  • समय पर इंटरकल्चर तथा निषेचन।
  • ए व आर दोनों पंक
  • किसान का प्रोफाइल                                                                                                                                         
    • किसानकानाम : श्री जी.नागरत्नम नायडू  
    • स्थान: दिलसुखनगर, हैदराबाद
    • जन्मतिथितथा 31 जनवरी 2011 कोआयु: 57 वर्ष 
    • शैक्षणिकयोग्यता: इलेक्ट्रॉनिक्स में डिप्लोमा   
    • ज़मीनकास्वामित्व (हेक्टेयरमें): 4
    • चावलकीखेतीकाअनुभव: (वर्षोंमें):  22 वर्ष
    • किसानद्वाराअपनायीगयीफसलप्रणाली:चावल – चावल, चावल – सब्ज़ियां/मूंगफली/दलहन, पुष्प, चारा
                नवाचार (इनोवेशन) काशीर्षकतथाप्रकृति:उच्चतर उत्पादकता के लिए चावल की जैविक व चिरस्थायी खेती नवाचार (इनोवेशन) कावर्णन:  जैविक खेती
    • 5 टन प्रति एकड की दर से एफवायएम (भेड, बकरी तथा
    किसान का प्रोफाइल:                                                                                         
    •  किसान का नाम : भारत भूषण   
    • स्थान: जम्मू चथा – 180009, जम्मू एवं कश्मीर
    • जन्मतिथि तथा 31 जनवरी 2011 को आयु: (34 वर्ष)
    • शैक्षणिक योग्यता: 10वीं उत्तीर्ण   
    • ज़मीन का स्वामित्व (हेक्टेयर में): 1 एकड
    • चावल की खेती का अनुभव: (वर्षों में):  16 वर्ष
    • किसान द्वारा अपनायी गयी फसल प्रणाली:   चावल – गेहूं
    नवाचार (इनोवेशन) का विवरण :                             नवाचार (इनोवेशन) का शीर्षक तथा प्रकृति:  चावल की खेती में नवाचारी विधियां  नवाचार (इनोवेशन) का वर्णन : एसआरआइ का एक मानक पैकेज के रूप में अभ्यास किया गया था लेकिन स्थानीय परिस्थितियों के आधार पर इसमें संशोधन किया गया। किए
    किसान का प्रोफाइल                                                                                               
    • किसानकानाम : श्री देवनाथ वर्मा    
    • स्थान: ज़िला उधम सिंह नगर, उत्तराखण्ड
    • जन्मतिथितथा 31 जनवरी 2011 कोआयु: 15-07-1947
    • शैक्षणिकयोग्यता: इंटरमीजिएट    
    • ज़मीनकास्वामित्व (हेक्टेयरमें): 6.0
    • चावलकीखेतीकाअनुभव: (वर्षोंमें):  35
    • किसानद्वाराअपनायीगयीफसलप्रणाली:   चावल-गेहूं-गन्ना
      नवाचार (इनोवेशन) का विवरण : नवाचार (इनोवेशन) का शीर्षक तथा प्रकृति:तिलक चन्दन – किसान की एक प्रजाति  नवाचार (इनोवेशन) का वर्णन:इस प्रजाति में 95 से 105 सेमी लम्बाई के बीच हरी पत्ती के आवरण के साथ तने की छोटी लम्बाई होती है, रंगहीन अरिन्द तथा कॉलर होते हैं। बांझ लेमा भूसे के रंग का होता है। इसमें मध्यम दर्ज़े की सुगन्ध
    किसान का प्रोफाइल
    • किसानकानाम : श्री श्यामसुन्दर गोपाल बंसोड     
    • स्थान: ज़िला चन्द्रपुर, महाराष्ट्र
    • जन्मतिथितथा 31 जनवरी 2011 कोआयु: 24 दिसम्बर 1950, 60 वर्ष, 1 महीना एवं 7 दिन
    • शैक्षणिकयोग्यता: 4थी उत्तीर्ण  
    • ज़मीनकास्वामित्व (हेक्टेयरमें): 4.8
    • चावलकीखेतीकाअनुभव: (वर्षोंमें):  40
    • किसानद्वाराअपनायीगयीफसलप्रणाली:   खरीफ में चावल, रबी में गेहूं, गर्मियों में मूंगफली
      नवाचार (इनोवेशन) का विवरण :  नवाचार (इनोवेशन) का शीर्षक तथा प्रकृति:कम्पोस्ट, वर्मिकम्पोस्ट, हरित खाद तथा धान उपजाने की एसआरआइ विधि का उपयोग।  नवाचार (इनोवेशन) का वर्णन :यह किसान चावल उपजाने की एसआरआइ विधि का अभ्यास करते हैं। इससे पहले यह किसान प्रत्यारोपण की पारम्परिक विधि से कार्य करते थे जिसमें उच्च बीज दर की आवश्यकता होती थी। एस आर आइ विधि के प्रयोग से आवश्यक बीज द

     किसान का प्रोफाइल                                                                                     

    • किसानकानाम : अरुण कुमार कम्बोज     
    • स्थान: ज़िला उधम सिंह नगर, उत्तराखण्ड
    • जन्मतिथितथा 31 जनवरी 2011 कोआयु: 22-01-1957
    • शैक्षणिकयोग्यता: हाई स्कूल, कृषि   
    • ज़मीनकास्वामित्व (हेक्टेयरमें): 7.2
    • चावलकीखेतीकाअनुभव: (वर्षोंमें):  40
    • किसानद्वाराअपनायीगयीफसलप्रणाली:   चावल-गेहूं-गन्ना/सस्बानिया-चावल-गेहू
    नवाचार (इनोवेशन) का विवरण : नवाचार (इनोवेशन) का शीर्षक तथा प्रकृति:किसान की प्रजाति (हंसराज) का चयन.  नवाचार (इनोवेशन) का वर्णन: किसान द्वारा विकसित चावल की सुगन्धित ऊंची प्रजाति जिसकी बासमती चावल के रूप में निर्यात की सम्भावना है, इसके पैनिकल ........ 110 दिन लगते हैं, दाने बेलनदार व लम्बे होते हैं, और जै

     किसान का प्रोफाइल

    •  किसानकानाम : श्री दिनेश नामदेवराव शेंडे    
    •  स्थान: ज़िला चन्द्रपुर, महाराष्ट्र
    • जन्मतिथितथा 31 जनवरी 2011 कोआयु
    • शैक्षणिकयोग्यता: 9वीं उत्तीर्ण  
    • ज़मीनकास्वामित्व (हेक्टेयरमें): 0.88
    • चावलकीखेतीकाअनुभव: (वर्षोंमें):  25
    • किसानद्वाराअपनायीगयीफसलप्रणाली:   खरीफ में चावल, रबी में गेहूं तथा चना, गर्मियों में सब्ज़िया
    नवाचार (इनोवेशन) का विवरण : नवाचार (इनोवेशन) का शीर्षक तथा प्रकृति:   1. एसआरआइ विधि का प्रयोग 2. बायोगैस सन्यंत्र की स्थापना   नवाचार (इनोवेशन) का वर्णन :
    • यह किसान चावल उपजाने की एसआरआइ विधि का अभ्यास करते हैं। इससे पहले यह किसान प्रत्यारोपण की पारम्परिक विधि से कार्य करते थे जिसमें उच्च बीज दर की आवश्यकता होती थी। एस आर आइ विधि के प्रयोग से आवश्यक बीज दर में कमी हुई है। 
    • उठे

     किसान का प्रोफाइल

    • किसानकानाम : के.नागेस्वर रेड्डी  
    • स्थान: कुर्नूल (ज़िला), आन्ध्रप्रदेश
    • जन्मतिथितथा 31 जनवरी 2011 कोआयु: 1-7-1959, 52 वर्ष 
    • शैक्षणिकयोग्यता: इंटरमीडिएट   
    • ज़मीनकास्वामित्व (हेक्टेयरमें): 20
    • चावलकीखेतीकाअनुभव: (वर्षोंमें):  30 वर्ष
    • किसानद्वाराअपनायीगयीफसलप्रणाली:चावल – सूर्यमुखी, जुवार, लाल चना
      नवाचार (इनोवेशन) कावर्णन:                                               नवाचार (इनोवेशन) काशीर्षकतथाप्रकृति:  1. चावल के लिए एसआरआइ खेती का परिचय 2. हरित खाद द्वारा लवणयुक्त मिट्टी का सुधार   नवाचार (इनोवेशन) कावर्णन:  1. 2003 के दौरान आन्ध्रप्रदेश के कुर्नूल ज़िले में चावल की एसआरआइ खेती की शुरुआत की। एसआरआइ खेती में लागू होने वाले चरण हैं:
    • प्रति एक
    Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies