Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

1. मादा बिना निषेचन के ही प्रजनन करती है और पंख अथवा बिना

पंख वाली कीट के रूप में विकसित होती है। वयस्क चींटियों द्वारा जड़ के आसपास बनाए गए गुहाओं में रहते हैं और वयस्क अपने संपूर्ण जीवनकाल में 35-40 जन्म देते हैं। 

2. अत्यधिक पर्याक्रमण की स्थिति में, पंख वाले कीट विकसित होते हैं और स्थना परिवर्तन के लिए पत्तों पर चढ़ जाते हैं। 

3.Braconid wasp,a mermithid निमेटोड्स तथा भौंड़े प्रमुख प्राकृतिक शत्रु हैं। 

22
Sep

राइस रूट अफिड का विस्तार

भारत में चावल की ऊंची भूमि वाली खेतों में राइस रूट एफिड प्रमुखता से पाए जाते हैं।

वर्ग     : इन्सेक्टा Insecta

क्रम     : होमोपटेरा Homoptera 

फैमिली    : अफिडीडे Aphididae 

जीनस    : टेट्रान्यूरा Tetraneura 

स्पीसीज  : नैग्रिया अबडोमिनालिस nigriabdominalis 

 

1. जैव नियंत्रण द्वारा राइस मीली बग को कम किया जा सकता है। छोटे बर्रे मीली बग को खाते हैं।

2. मकड़ी, क्लोरोपिड कीट, ड्रोसोफिलिड तथा भौंड़े मीली बग के परभक्षी होते हैं।

1. उचित साफ-सफाई का ध्यान रखें। इस्तेमाल के बाद उपकरणों को साफ करें। खेतों में काम करने वाले जानवरों और आप अपने आप को पर्याक्रमित क्षेत्रों से अपर्याक्रमित क्षेत्रों में उसी दिन जाने से बचें।

2. मीली बग खेती के उपकरणों, जाली सामग्री, पौधों के भागों तथा खेतों में काम करने वाले जनवरों द्वारा एक स्थान से दूसरे स्थान तक फैलता है। पर्याक्रमित पौधे और पौधों के भागों का इस्तेमाल अधिक नहीं करना चाहिए। इन्हें खेतों से बाहर कर नष्ट कर देने चाहिए। 

3. चींटियों कोनियंत्रित करें या मार दें। खेतों में पानी डालकर जुताई करें। इससे चींटियों के घर नष्ट हो जाते हैं और उनके अंडे और लार्वा परभक्षी और सूर्य प्रकाश के लिए खुले में आ जाते हैं। पौधों से पोषण लेने के लिए चीटियां मीली बग का इस्तेमाल करती हैं।  

4. उच्च घुलनशील नाइट्रोजनी ऊर्वरक के अधिक इस्तेमाल से बचें क्योंकि

22
Sep

राइस मीली बग का प्रबन्धन

राइस मीली बग के प्रबन्धन में शामिल है कल्चरल, जैव तथा रासायनिक विधियां।

1. खेतों में स्पष्ट मोम और पाउडर जैसे पदार्थ से ढके कीटों द्वारा तथा उनके द्वारा पर्याक्रमित पौधों पर चींटियों की उपस्थिति से मीली बग की आबादी को आसानी से पहचाना जा सकता है।  

2. वयस्क और नवजात पौधे से रस चूसते हैं जिसके कारण पौधे की वृद्धि रुक जाती है और पत्ते पीले होकर मुड़ जाते हैं। 

3. भारी आक्रमण की स्थिति में, पौधा विशेष की मिट्टी सूख जाती हैं और पुष्प-गुच्च अच्छी तरह से खुल नहीं पाते।  पर्याक्रमण मिट्टी में होता है और यह नमी के बढ़ने पर प्रबल हो जाता है। 

 

1. ये विनाशक कीट ovipary तथा              

parthenogenetic vivipary द्वारा प्रजनन किए जाते हैं।

2. अंडे देने के साथ-साथ ही नवजात अंडे से बाहर निकल जाते हैं और ये अलग ही मोम जैसी और पाउडर जैसे आवरण से ढके रहते हैं।

3. नवजात कीट पत्ते के आवरण और तने के बीच बिना हिले-डुले पड़े रहते हैं।

4. मीली बग द्वारा पर्याक्रमित पौधे पर चींटियां बराबर आती हैं और कीटों को अपर्याक्रमित पौधों पर खींच कर ले जाती हुई पाई गई हैं।

1. राइस, सैनोडान् डाकटीलान, पास्पालम स्क्रोबिक्युलेटम, एल्युसाइन इनडीका, डीजीटेरिया सान्गुइनालिस Cynodon dactylon, Paspalum scrobiculatum, Eleusine indica, Digitaria sanguinalis तथा फिम्ब्रिसटैलिस स्पिशिस Fimbristylis spp.

22
Sep

राइस मीली बग का विस्तार

सूखे क्षेत्रों में उगने वाली फसलों में और उबर-खाबड़ सतह वाली खेतों में जहां पौधे अपेक्षाकृत सूखी मिट्टी की धारियों में होते हैं, वहां ये बहुतायत से पाया जाते हैं।

Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies