Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

गुंधी बग और सकिंग बग (Gundhi bug and Sucking bug)

PrintPrintSend to friendSend to friend

गुंधी बग और सकिंग बग (Gundhi bug and Sucking bug)

किस प्रकार की क्षति होती है :

1. अनाज के बढ़ने के दौरान दूध वाली अवस्था में युवा और वयस्क कीट रस चूस लेते हैं जिस कारण अनाज के दाने भूसी (चैफ़ी) जैसे, खाली हो जाते हैं और यदि कुछ दाने पनप कर बड़े हो जाते हैं तो चक्की में वे टूट जाते हैं।

गुंधी बग का प्रबंधन (Management of Gundhi bug)

इनकी संख्या कम करने के लिए सुबह के समय डस्टर की सहायता से कार्बैराइल (सेविन 5%) या मैलैथियॉन 5% पावडर या क्लोरोपाइरिफॉस 2% पावडर को 20 कि.ग्रा/हेक्टेयर की दर पर छींटना चाहिए या 0.05 % मोनोक्रोटोफॉस या 0.07% एन्डोसल्फैन या 0.05% क्विनैल्फॉस (एकालक्स) का छिड़काव करना चाहिए।

निचली भूमि में (लो-लैन्ड): निचली भूमि के चावलों में नर्सरी में और रोपाई के बाद आक्रमण होता है।

1. नर्सरी: कई कीड़े चावल पर नर्सरी के दौरान आक्रमण करते हैं जैसे रूट एफिड, फ़्ली बीटल्स, स्टेम फ़्लाई, स्टेम बोरर्स, WBPH, ग्रीन लीफ़ हॉपर्स, खेतों के झिंगूर और बाल वाले झींगा (कैटरपिलर) आदि। ये फसल को गंभीर रूप से क्षति पहुंचाते हैं।

प्रबंधन : बुआई से पहले मिट्टी में कार्बोफ्यूरन 3 G @ 303 ग्रा./वर्गमीटर को मिश्रित कर और बुआई के 20 दिनों के बाद मोनोक्रोटोफॉस 0.05% के छिड़काव से क्षति कम हो जाती है।

File Courtesy: 
सीसीएस-एचएयु, राईस रिसर्च स्टेशन, कॉल
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies