Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

रोडेन्ट नियंत्रण की भौतिक विधियां

PrintPrintSend to friendSend to friend

रोडेन्ट नियंत्रण की भौतिक विधियां

a. रैट प्रूफिंग : नए गोदाम बनवाते समय ध्यान रखें कि उन्हें रैट प्रूफ बनवाएं। आदर्श गोदाम की कुछ विशेषताएं हैं: गोदाम चूहों की बस्ती से दूर होने चाहिए। उसका आधार ऊंचा होना चाहिए। देखें कि कहीं आस-पास पानी इकट्ठा न होता हो। भवन-निर्माण के काम आने वाले पक्के सीमेंट से इमारत बनानी चाहिए। गोदाम की छत पर पेड़ों की शाखाएं नहीं आनी चाहिए। सभी खिड़कियों रोशनदानों, गटर, नालियों आदि पर 24 गेज ¼” (0.6 सेमी) मोटी मेटल मेश फिट करवाएं। दरवाजे अच्छी तरह बंद करें। दरवाजे और फर्श के बीच का स्थान ¼ “ (0.6 सेमी) से अधिक नहीं होना चाहिए। कम से कम 3’ (90 सेमी) गहरी पक्की नींव होनी चाहिए। दरवाजों में नीचे मेटल शीट की 9” (25 सेमी) की लाइनिंग होनी चाहिए। गोदाम के सामने प्लेटफॉर्म सीढ़ियां रात भर नहीं रखनी चाहिए। प्लेटफॉर्म 12” (30.5 सेमी) ऊंचा और उल्टे एल आकार में होना चाहिए। सभी दीवारों और फर्श पर सीमेंट का प्लास्टर होना चाहिए। यदि कोई रैट होल दिखे तो उसे तुरंत सीमेंट से भरें। यदि छिद्र बहुत बड़ा है तो उसमें कांच के टुकड़े भरने चाहिए। स्वतः दरवाजा बंद होने का सिस्टम चूहों का प्रवेश रोकने में मदद कर सकता है। चूहों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए गोदामों का नियमित निरीक्षण और सफाई ज़रूरी है।

b. स्वच्छता और सफाई : खाना ऐसे बर्तनों में रखना चाहिए जहां चूहे न पहुंच सकें। अपशिष्ट भोजन और खाने के खाली टिन मजबूती से बंद होने वाले डस्टबीन में फेंकें। खाद्य का भंडारण इस तरह करें कि समय-समय पर उनके चारों ओर नज़र डाली जा सके। गोदाम के अंदर या आस-पास कचरे, लकड़ी, ईंटों आदि का ढेर इकट्ठा न होने दें। कचरा हटाने का सबसे सही समय उसका अस्थायी निपटारा करने से बिल्कुल पहले है। स्टोर में चूहे मारने की दवाई काम में लें।

c. अल्ट्रासोनिक उपकरणों का प्रयोग : अल्ट्रासोनिक उपकरणों से ऐसी अल्ट्रासोनिक तरंगें निकलती हैं जो इंसानों को तो सुनाई नहीं देती लेकिन चूहों और मूषकों के लिए असह्य होती हैं। ऐसा पाया गया है कि ये इंसानों को नुकसान पहुंचाए बिना चूहे भगाने में काफी मददगार साबित हुई हैं। हालांकि अब तक कोई प्रभावी उपकरण उपलब्ध नहीं है।

d. परजीवी : रोडेन्ट नियंत्रण के लिए साल्मोनेल्ला प्रजाति के वाइरस का उपयोग किया जा सकता है लेकिन उससे अन्य अलक्षित प्राणियों को खतरा होने के कारण उसकी सलाह नहीं दी जाती है।

File Courtesy: 
C S Azad University of Agriculture and Technology, Kanpur
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies