Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

साइपेरस रोटुन्डस एल. (बैंगनी नट सेज) - Cyperus rotundus L

PrintPrintSend to friendSend to friend

साइपेरस रोटुन्डस एल. (बैंगनी नट सेज)

कुल: साइपरेसी

विवरण:

  • संसार के सबसे बुरे खरपतवार में से एक।
  • ऊंचाई -15-60 सेमी.  
  • यह पौधा आधार में फूलकर मोटा होता है। इसका पुष्पदंड चिकना होता है, 10 से 60 सेमी लंबा होता है, 30 सेमी लंबी और 8 मिमी चौड़ी घासनुमा पत्तियों के आधार क्लस्टर के केंद्र से निकलता है।  
  • पत्तियां चिकनी, गहरी हरी होती हैं और ऊपरी सतह पर खांचा बनाती हैं।  
  • कुछ नगण्य भूमिगत फैलने वाले तने के आधार से निकलते हैं और काले, अनियमित आकारों या गोल कंदों की शृंखला बनाते हैं जिनकी लंबाई 2 सेमी होती है। कंद अंकुर अपने जनक पादप से जुड़े हुए ही नए पौधे तैयार कर लेते हैं।  
  • तने के शीर्ष पर फूल लगते हैं। उसमें अनेक पतली शाखाएं होती हैं जिनके शीर्ष पर भूरे से गहरे रंग के स्पाइक के क्लस्टर रहते हैं। प्रत्येक स्पाइक में 10 से 30 छोटे सघन फ्लोरेट होते हैं जो परिपक्व होकर काले तिकोने नट्स बनाते हैं।
  • राइज़ोम भूमिगत ट्यूबर्स को बढ़ने का अवसर देते हैं जो सघनता से फैलने लगते हैं। ट्यूबर्स 10 सेमी मिट्टी में सघन हो जाते हैं और भोजन का संग्रहण करते हैं। ये प्रजनन में बहुत सहायक होते हैं। एक ट्यूबर के अंकुरण के 3 सप्ताह के अंदर ही उससे नए ट्यूबर पैदा हो जाते हैं। ट्यूबर में ग्रंथियां, अंतर्ग्रंथियां और स्केल लीव्ज़ होती हैं।
File Courtesy: 
C S Azad University of Agriculture and Technology, Kanpur
Image Courtesy: 
Mr.Chaitanya, DRR
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies