Best Viewed in Mozilla Firefox, Google Chrome

चावल के टिकाऊ उत्पादन के लिए मृदा स्वास्थ्य की अवधारणा को समझना

PrintPrintSend to friendSend to friend

1. चावल के टिकाऊ उत्पादन, टिकाऊ कृषि प्रणालियां तथा साथ ही भूमि उपयोग के लिए मृदा के मूल्यांकन तथा प्रबंधन के लिए मृदा स्वास्थ्य को समझना जरूरी होता है, ताकि वर्तमान में इसका आदर्श उपयोग हो सके तथा भविष्य के उपयोग के लिए उसकी गुणवत्ता में गिरावट न आ सके।  

2. कृषि में मृदा का महत्व है तथा इसे बनाए रखने का प्रयास किया जाना चाहिए। हालांकि हमने इसकी उत्पादकता की समस्या को काफी बढ़ा दिया है। 

3. इस प्रकार यह समझना जरूरी हो जाता है कि मृदा स्रोतों के अल्प कालिक उपयोग तथा इसके दीर्घ कालिक टिकाऊपन के बीच एक संतुलन कायम हो। 

4. अतः मृदा स्रोत को विवेकपूर्ण रूप से इस्तेमाल करने की जरूरत है ताकि उपयोग तथा टिकाऊपन के बीच एक सही संतुलन कायम हो सके। 

 

 

File Courtesy: 
DRR टेक्निकल बुलेटिन नं. 11, 2004-2005, एम. नारायण रेड्डी, आर. महेन्दर कुमार तथा बी. मिश्रा, चावल आधारित फ़सल प्रणाली हेतु स्थल-विशिष्ट समेकित पोषण प्रबंधन
Copy rights | Disclaimer | RKMP Policies